बार-बार की असफलता ही एक दिन बड़ी सफलता की ओर ले जाती है - Silsila Zindagi Ka
  • Welcome To My Blog

    बार-बार की असफलता ही एक दिन बड़ी सफलता की ओर ले जाती है

    दोस्तों! हम में से अधिकांश लोग ऐसे होते हैं, जो एक बार या फिर दो बार की असफला के बाद ही हार मान लेते हैं और फिर प्रयास करना छोड़ देते हैं। लेकिन  क्या आपको पता है कि कई ऐसे इंसान हैं जो एक बार नहीं, दो बार नहीं बल्कि हज़ार बार असफ़ल होने के बाद भी हार नहीं माने और एक दिन ऐसा आया, जब उन्होंने अपनी मेहनत और जुनून की बदौलत इतिहास पैदा कर दिया। कुछ वैसे लोगों के बारे में ही मैं आप लोगों बताने जा रहा हूँ। जिनकी कहानियां और सोच, आपकी सोच को बदल देगी।

    1.थॉमस एल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison)-:  यह नाम कोई साधारण नाम नहीं है। बल्कि, ये वो नाम है जिसकी वज़ह से आज हमारे घर, आंगन और जीवन में उजाला है। ये वो नाम है, जिसने पूरी दुनिया को ये बताया था कि अंधेरे में भी उजाला हो सकता है। और साबित भी कर के इन्होंने दिखाया जब बल्ब लाइट का आविष्कार किया। लेकिन आपको शायद पता नहीं होगा कि इस आविष्कार तक पहुंचने से पहले एडिसन को 1000 बार असफलता का सामना करना पड़ा था। लेकिन इन्होंने कभी हार नहीं मानी। उस असफलता को इन्होंने चुनौती के रूप में लिया और वो कर दिखाया जो शायद ही कोई सोच भी सकता है।


    2. स्टीव जॉब्स (Steave Jobs )- : एक ऐसा इंसान जिसके पास रहने के लिए खुद का कमरा नहीं था। मज़बूरी की वज़ह से उसे अपने दोस्तों के पास सोना पड़ता था। लेकिन आपको पता है कि आज ये इंसान क्या है और कौन है? इस इंसान का नाम स्टीव जॉब्स है और ये इंसान BEST MOBILE AND COMPUTER COMPANY "APPLE" का संस्थापक है । इनका शुरुआती सफ़र बेहद मुश्किल भरा रहा था, लेकिन आज आप ख़ुद ही देख सकते हैं।


    3. हेनरी फोर्ड (Henry Ford)-:  हेनरी फोर्ड अमेरिका के सबसे बड़े उद्योगपतियों में से एक थे। जिनके नाम से आज FORD MOTOR COMPANY विश्वविख्यात है। लेकिन इससे पहले आपको बता दें कि हेनरी फोर्ड का शरूवाती जीवन भी बेहद संघर्ष भरा रहा। शुरुवात में दो कंपनियां इन्होंने शुरू की लेकिन दोनों ज़ल्दी ही बंद हो गईं। इस असफ़लता से हेनरी फोर्ड ने हार नहीं मानी, बल्कि इससे उन्होंने शिक्षा ली और फिर स्थापित कर दिया FORD MOTOR COMPANY.


    4. नेल्सन मंडेला ( Nelsan Mandela )-: क्या आपको पता है कि अपनी ज़िद्द और जुनून की बदौलत नेल्सन मंडेला ने South Africa का पद हासिल किया था। यह सफ़र उनके लिए आसान नहीं था। क्योंकि अपनी ज़िंदगी की आधी उम्र उन्होंने जेल में बिताया था। फिर भी उन्होंने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी और उन्होंने कहा था "अपने नसीब का मालिक मैं ख़ुद हूँ- अपनी आत्मा का कप्तान मैं ख़ुद हूँ"।


    5. वाल्ट डिज्नी ( Walt Disney )-: यह नाम शायद आपके लिए जाना-पहचाना होगा। क्योंकि यह नाम हर रोज़ हर टीवी पर दिख जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि स्वर्गीय "वाल्ट डिज्नी" का जीवन कितना संघर्ष भरा रहा है? 16 साल की उम्र में इन्हें स्कूल से निकाल दिया गया था। कद छोटा होने के कारण उन्हें आर्मी की नौकरी से रिजेक्ट कर दिया गया। बहुत मुश्किल के बाद उन्हें एक अखबार में बतौर कार्टूनिस्ट नौकरी मिली। कुछ समय बाद वाल्ट डिज्नी के मन में कुछ बड़ा करने का ख़्याल आया और उन्होंने अपने भाई के साथ मिलकर एक विफल हो रही कंपनी " Laugh O Gram" को खरीद लिया और उसी कंपनी को इतना विस्तारित किया कि आज उसे लोग WALT DISNEY के नाम से जानते हैं।


    ये थी उन असफल व्यक्तियों की कहानी जिन्होंने वक़्त और असफलता दोनों को मात दिया, जो आज सबके लिए एक उदाहरण है। सचमुच, ऐसे लोगों को सलाम जो कुछ नहीं थे लेकिन जब हुए तो फिर उनके जैसा कोई न हुआ।

    दोस्तों! कैसा लगा मेरा यह लेख, मुझे ज़रूर लिखिए। कमेंट कीजिये। आप मुझे मेल भी कर सकते हैं। wonderfullworld6@gmail.com

    website: www.missyou.in.net




    No comments:

    Post a Comment