गायक शशि ठाकुर जिनकी आवाज़ में है जादू - Silsila Zindagi Ka
  • Welcome To My Blog

    गायक शशि ठाकुर जिनकी आवाज़ में है जादू



    हर किसी के दिल में  उतर  जाता है  इंसान
    अगर चाहत है  दिल  में  उतरने की।
    हर ख़्वाब, हर ख़्वाहिश पूरी होती है उसकी
    अगर चाहत है कुछ कर गुजरने की।।

    दोस्तों! कहते हैं कि एक इंसान क्या नहीं कर सकता? एक इंसान चाह ले तो क्या नहीं हासिल कर सकता? अगर उसके अंदर जोश, जुनून और हौसला है तो वो स्वर्ग को भी ज़मीं पर ला सकता है।


    "बार-बार की कोशिश से, हारी बाज़ी को भी जो जीत जाते हैं....वो ही ज़माने में एक दिन सिकन्दर कहलाते हैं।"
    आज मैं आपको एक ऐसे ही इंसान से परिचय कराने जा रहा हूँ-  "जो हर हारी बाज़ी को जीत है, तभी तो आज ज़माना उसके नाम का गीत गाता है"। जी हाँ, इस व्यक्तित्व का नाम है "शशि ठाकुर"। 

    दियारा क्षेत्र के नौरंगा गाँव के निवासी शशि ठाकुर जो एक उम्दा गायक हैं और आज इनकी गायकी के हज़ारों दीवाने हैं।

    जहाँ एक तरफ, आज की युवा पीढी ख़ुद को एस्टेब्लिश करने के लिए किसी कम्पनी या कोई नौकरी ज्वायन करना चाहती है, वही शशि ठाकुर ने इन सबको पीछे छोड़ते हुए गायकी का क्षेत्र चुना और आज गायकी में पूरी तरह कामयाब होते हुए भी दिख रहे हैं। 

    हाल ही में इनका देवी गीत" झूली झूली निमिया गछिया" "रिया फिल्म्स" के बैनर तले रीलिज़ हुआ है। जिसके गाने बहुत ही मधुर हैं।
    इस एलबम के गीतकार- रोहित दूबे, मंतोष मासूम और रतुल राजा हैं। संगीत उत्तम सिंह का है। इस एलबम के निर्देशक अशोक कुमार और सहयोगी सत्येंद्र ठाकुर हैं।

    इससे पहले गायक शशि ठाकुर तीन एलबम कर चुके हैं। जिसे लोगों ने खूब प्यार दिया है। आप इस एलबम को भी सुनिए और अपना प्यार दीजिये।

    हिम्मत है, जुनून है और आगे जाना है
    अपनी गायकी और अपनी प्रतिभा के बदौलत आज गायक गायक शशि ठाकुर लोगों के दिलों पर अपनी गायकी का छाप छोड़ चुके हैं। इनकी गायकी के अंदाज़ का  क्या कहना? जो भी गाना इन्होंने गाया, लोगों ने उसे सराहा। शशि ठाकुर दिन-प्रतिदिन कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ते जा रहे हैं और इसी ढ़र्रे पर चल रहे हैं- हिम्मत है, जुनून है और आगे जाना है।

    दोस्तों! आप शशि ठाकुर का नया एलबम ज़रूर सुनिए और बताईये कैसा है? 

    और हम गायक शशि ठाकुर को दिल से दुआ देते हैं कि आप इसी तरह दिन-प्रतिदिन आगे बढ़ते रहिये और इसी तरह आपका "सिलसिला ज़िन्दगी का" चलता रहे।

    No comments:

    Post a Comment