• Welcome To My Blog

    आदित्य अश्क़ की कलम से कुछ पंक्तियाँ

    आज फिर तेरा दीदार हुआ
    आज फिर तेरी आँखों में काजल था
    आज फिर तेरी यादें तड़पाएंगीं मुझे
    आज फिर मुझे मरना पडेगा
    कितना अजीब है ये दिल
    किसी को अपना सब कुछ सौंप देता है
    वगैर ये परवाह किये कि
    छीन लेगी ये सुकूं भी जो हासिल है
    तोड़ देगी दिल कई टुकड़ों में
    जीने की चाह लिए रोज़ मरना पड़ेगा
    अगर मोहब्बत दर्द की बुनियाद है
    तो मेरा ग़म इस पे खड़ी हवेली है
    हमारी तमाम आंसू बेबसी कैद है इसमें
    दुनिया समझती है हमारी शोहरत हो गयी
    लेकिन सच तो बस इतना है
    इस बड़ी हवेली की बिस्तर पर
    तुम्हारी यादों के चादर ओढ़े हुए
    रोज़ एक बार मरता हूँ.
    "आदित्य कुमार अश्क़"

    No comments:

    Post a Comment

    Featured Post

    TV Show: बिग गंगा और Zee5 पर देखिये मेरा नया कार्यक्रम "मस्त मलंग भोले बाबा के बम"

    TV Show: बिग गंगा और Zee5 पर देखिये मेरा नया कार्यक्रम "मस्त मलंग भोले बाबा के बम" प्रोग्राम- मस्त मलंग भोले बाबा के बम चैन...