• Welcome To My Blog

    Jita Tha Jiske Liye, Jiske Liye Marta Tha/ जीत था जिसके लिए, जिसके लिए मरता था

    Jita Tha Jiske Liye, Jiske Liye Marta Tha

    मुझे नहीं लगता कि किसी ने दिलवाले फ़िल्म नहीं देखी होगी। और यह गाना नहीं सुना होगा- Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha.
    Jita Tha Jiske Liye, Jiske Liye Marta Tha, Silsila Zindagi Ka

    बल्कि मुझे तो ऐसा लगता है कि किसी ने और कोई फ़िल्म भले ही ना देखी हो, मगर दिलवाले ज़रूर देखी होगी।
    Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha. और यह गाना ज़रूर सुना होगा।
    अजय देवगन और रवीना टंडन की फ़िल्म थी।
    इस फ़िल्म को देखकर ना जाने कितने बेदिलवाले दिलवाले बन गए। ना जाने कितने आशिक़, आवारा और मजनू बन गए। और ना जाने आज कितने पागल हो कर किसी गल्ली में चिरकूट बटोर रहे हैं।
    कसम से क्या फ़िल्म थी? झंकझोर देती थी। जान ले लेती थी। पर्दा पर का सीन लोगों के वास्तविक जीवन में गर्दा उड़ा रहा था।
    दिलवाले फ़िल्म का एक गाना- Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha. भगवान क़सम! टूटे हुए दिलवालों को इससे बड़ा कोई राहत नहीं होता है। इधर की ही घटना बात रहा हूँ आपको।
     पटना से आरा लोकल सवारी गाड़ी से यात्रा कर रहा था। एक भाई साहब अपने मिन्ह में गुटखा भरे हुए यह और खिड़की पर बैठे बाहर देख रहे  थे और अपने मोबाइल में गाना चला रहे थे, Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha. कुछ लोग उन्हें देख का रमुस्कुरा रहे थे। हँस रहे थे।।लेकिन उस भाई एको कोई परवाह नहीं थी। टूटे हुए दिलवाले थे। सच कहूँ आपसे- हमको बहुत तरस आ रही थी। 
    हाँ एक बात और, अगर सबसे ज़्यादा यह गाना आज भी सुना जाता है तो वो है बिहार। यह बिल्कुल आज़माया हुआ है। किसी भी आशिक़ का अगर दिल टूट जाता है तो वो यही गाना सुन कर अपने प्यार की दुहाई देता है या यूं कह दीजिये कि भड़ास निकालता है।
    आज मुझे भी यह गाना और यह फ़िल्म इसलिए नहीं याद आया कि मैं इसे बहुत सुनता हूँ, या फिर बहुत पसंद करता हूँ। बल्कि इसलिए याद आया क्योंकि आज बहुत सालों बाद मैंने इस गाने को बस में सुना। अच्छा लगा। लेकिन जिन भाई साहब ने यह गाना अपने मोबाइल में प्ले कर रखा था, उनके चेहरे पर देख कर ऐसा लग रहा था कि प्यार ने इन्हें दीवाना बनाया था और इस दिलवाले।को फिर उसी प्यार ने मुंह पर तमाचे मार कर थोबड़ा बिगाड़ा और चला गया।
    एक दिलवाले की कहानी कुछ ऐसी भी
    तब पटना में पढ़ाई करता था। बिहार शरीफ का था। एक लड़की से प्यार करता था। बहुत मरता था उस पर। उसको सड़को पर, गलियों में, बागों में, कांटो में, कलियों में.....उसे उसका ही चेहरा नज़र आता था। अचानक एक दिन उस लड़की की शादी हो गई। हमारा दोस्त पगला गया बेचारा। पढ़ाई-लिखाई चली गई भांड में। अब ऊ दिन भर यही गाना सुनता था- Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha. जब भी ऊ ई गाना सुनता था और भी पगला कर चिल्लाने लगता था। दो-चार आदमी उसको संभालने में लगते थे।
    उसके घर वालों ने मिल कर यह फैसला किया कि अब इसको Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha...इससे इसको दूर रखा जाए। और किसी तरह 6 महीने तक उसको इस गाने से दूर रखा गया। अब हमारे दोस्त का दिमाग भी थोड़ा-थोड़ा ठंडा होने लगा था। अब उस लड़की को वो भूलने लगा था।
    एक दिन वो बस स्टैंड पर गया किसी काम से। तभी वो लड़की उसको उसी बस स्टैंड पर दिखाई दी, जिसके लिए वो पागल हुआ था। सोचा कि उसकी तरफ वो देखेगा ही नहीं और उस बेचारे ने वाक़ई ख़ुद पर बहुत कंट्रोल किया। लेकिन तभी पान की दुकान से वही क़ातिल गाना सुनाई दिया - Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha. फिर क्या था? दोस्त गया पगलाई। दौड़ा-दौड़ा गया और उस पान वाले दुकानदार को मारना शुरू कर दिया। यब देखकर दो-चार आदमी दौड़े और हमारे दोस्त को पकड़कर धुलाई कर दिए। बेचारा वही गिर पड़ा। तभी वो बस चल पड़ी, जिसमें उसकी प्रेमिका बैठी थी। उसकी प्रेमिका ने जब अपने भूत पूर्व प्रेमी को इस हाल में देखा तो वो मुस्कुराई। मेरा दोस्त घायल, ज़मीन पर गिरे हुए उसे देखा। बस निकल गई। लेकिन कुछ ना कर सका। अभी भी उसी दुकान से तेज़ आवाज़ में गाना सुनाई पड़ रहा था- Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha.
    गाना भी वही था, लड़की भी वही थी....पर हमारे दोस्त में हिम्म्त ना थी कि वो अजय देवगन बन पाए।
    नहीं मालूम कि आज हमारा दोस्त कहाँ और कैसा है? बस जैसे ही आज हम ये गाना सुने Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha.....उसकी याद आ गाई।
    उसकी यादों को यही छोड़ता हूँ। क्योंकि कल नई बातों के साथ फिर आपसे मिलना है। इज़ाज़त दीजिये और हो सके तो आज आप भी एक बार गुनगुना लीजिए- Jita tha jiske liye, jiske liye marta tha....ek aisi wo ladki thi jisse main pyar karta tha....लेकिन मुस्कुराते हुए दोस्तों।



    No comments:

    Post a Comment

    Featured Post

    आइंस्टाइन के सिद्धांत को चुनौती देने वाले बिहार के महान गणितज्ञ

    आइंस्टाइन के सिद्धांत को चुनौती देने वाले बिहार के महान गणितज्ञ  डॉक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह कभी उन्हें चेहरे पर मुस्कुराहट लिए तो कभी आ...