• Welcome To My Blog

    मेरे घर की दीवारें अब बूढ़ी हो चली हैं

    मेरे घर की दीवारें शायद
    अब बूढ़ी हो चली हैं।
    इनमें अब सीलन
    सी आने लगी हैं ।
    इनका ज़र्रा-ज़र्रा अब
    कांपने लगा है ।
    मैंने इनकी दर्द भरी
    आवाज़ को सुना है ।
    महसूस किया है मैंने
    इनकी हर तकलीफ़ को।
    पत्थरों का बोझ ढ़ोते-ढ़ोते
    अब थक सी गई हैं।
    मेरे घर की दीवारें शायद
    अब बूढ़ी हो चली हैं ।

    इनकी लबों पे जो मुस्कान थी
    वो गायब हो चुकी हैं ।
    मैं लाख कोशिशें करता हूँ
    की फिर से मुस्कुराएं ये ।
    पर अफ़सोस, ऐसा नहीं
    हो पाता है।
    पहले गाती थीं, गुनगुनाती थीं
    पर अब सिर्फ खामोश हैं ।
    बिखरी हुई सी दिखती हैं।
    उदास, निराश ।
    एक दर्द लिए सीने में
    कुछ देखती और सोचती
    रहती हैं ।
    धीरे-धीरे इनका वज़ूद
    सिमटने लगा है ।
    ऐसा लगता है ।
    मेरे घर की दीवारें शायद
    अब बूढ़ी हो चली हैं।

    2 comments:

    Featured Post

    Journey From Finite To Infinite/एक नए सफ़र की ओर

    Journey From Finite To Infinite जब भी कभी मैं अपने बड़े भाई के बारे में सोचता हूँ, मुझे गर्व होता है। जब भी कभी मैं अपने भाभी (खुशी सिंह)...