देशभक्ति शायरी और गाने जो आपके दिल को छू जायेंगें - Silsila Zindagi Ka
  • Welcome To My Blog

    देशभक्ति शायरी और गाने जो आपके दिल को छू जायेंगें



    आज़ादी के पावन मौके पर सभी को मेरे और मेरे Blog कि तरफ से बहुत-बहुत शुभकामनाएं. (Silsila Zndagi ka Wishesh you ‘’A HAPPY INDEPENDENCE DAY.  www.missyou.in.net )
    आज़ादी का ये पावन पर्व हर साल इसी तरह हम मनातें रहें. इसी तरह झंडा लहराते रहें और उन शहीदों को दिल से याद करते रहें “जो लौट के घर ना आये”. दोस्तों !! कहते हैं कि देशभक्ति की भावना से बढ़कर हमारे लिए और कोई भावना नहीं हो सकती. ये वो भावना है जो हृदय से निकलती है और तन, मन और वतन को अपने रंग में रंग जाती है. किसी ने क्या ख़ूब कहा है – “जो भरा नहीं है भावों से, बहती जिसमें रसधार नहीं...वो हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं”. 
    इसी स्वदेश प्रेम की भावना से ओत-प्रोत हो कर कई लेखकों ने कई ऐसी कवितायें, ग़ज़ल, शायरी और गीत लिखे हैं, जिन्हें सुनते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं. आईये देखते हैं उन गीतों, ग़ज़लों और शायरी को.



    1.लिख रहा हूँ मैं अंज़ाम जिसका कल आग़ाज़ आयेगा 
       मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा 
       मैं रहूँ या न रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
       मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आएगा

    2. आज़ादी की कभी शाम नहीं होने देंगे 
        शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
        बची हो जो एक बूँद भी लहू की 
        तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

    3. धरती सुनहरी अम्बर नीला हर मौसम रंगीला 
         ऐसा देश है मेरा 
         बोले पपीहा कोयल गाये, सावन घिर के आये 
          ऐसा है देश मेरा

    4.  सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है 
         देखना है दम कितना बाजू-ए-क़ातिल है

    5.  मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ 
         यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ 
         मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की 
         तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ

    6.  ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँख में भर लो पानी 
         जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी

    7.  मेरा वतन मेरे दिल में है और दिल में ही रहेगा 
         मुझे जीना भी इसके लिए है और मरना भी इसके लिए

    8.  कोई सिख कोई जाट मराठा कोई गोरखा कोई मद्रासी 
          सरहद पर मरने वाला हर वीर था भारत वासी

    9.   ऐ मेरे प्यारे वतन 
          ऐ मेरे बिछड़े चमन 
          तुझ पे दिल कुर्बान

    10. तब आंसू की एक बूँद से सातों सागर हारे होंगे 
          जब मेहंदी वाले हाथों ने मंगल सूत्र उतारे होंगे

    11. सीने में जूनून और आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ 
          दुश्मन की साँसें थम जायें, आवाज़ में इतनी धमक रखता हूँ

    12. सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा 
         हम बुलबुले हैं उसकी वो गुलसितां हमारा

    13. बड़े दिनों के बाद हम दे वतनों को याद 
          वतन की मिट्टी आई है, चिट्ठी आई है

    14.  ये दुनिया....एक दुल्हन 
           ये दुनिया, एक दुल्हन....दुल्हन के माथे पे बिंदिया 
           I LOVE MY INDIA

    15. कभी-कभी नींद से घबरा कर जगता हूँ और सोचता हूँ 
          कोई सरहद पर जग रहा है हमारी इसी सुकूं की नींद के लिए 
          ( सैनिकों को SALUTE )

    16. तुम भले ही लौट कर न आना मेरे पास 
          पर वतन की हिफाज़त में कोई कसर मत छोड़ना 
          (माँ का पाने बेटे के प्रति सन्देश )

    दोस्तों !! ये थी कुछ देशभक्ति गानों और कविताओं की पंक्तियाँ. अगर आप को भी कुछ ऐसी ही देशभक्ति पंक्तियाँ याद हैं तो कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखिए. धन्यवाद!!

    E-mail- wonderfullworld6@gmail.com 
    website  - www.missyou.in.net

    No comments:

    Post a Comment