प्यार।।Love - Silsila Zindagi Ka
  • Welcome To My Blog

    प्यार।।Love

    LOVE
    तुम्हारे जीने की आस बन कर आऊंगा
    मुझे भुला पाना इतना आसान नहीं
    मैं हर जगह तुम्हारी याद बन कर आऊंगा।


    तुम्हारी बेचैनी में तुम्हारा सुकून बन कर आऊंगा
    हार गए जो कभी तो तुम्हारा जुनून बन कर आऊंगा

    इस जहाँ में तुम्हारी पहचान बन कर आऊंगा
    उदास लबों पे तुम्हारा मुस्कान बन कर आऊंगा

    लफ्ज़ बन कर हर पल रहूंगा तुम्हारे तराने में
    मैं ही नज़र आऊंगा तुम्हारे हर नज़राने में

    तुम्हारी ख़्वाहिशों का मैं अंज़ाम बन कर आऊंगा
    तुम्हारी हर सुबह, रात और शाम बन कर आऊंगा

    बेचैनी में भी तुम्हारे लिए राहत बन कर आऊंगा
    तुम्हारे लिये हर पल तुम्हारी इबादत बन कर आऊंगा।

    मैं तुम से प्यार करता था और प्यार करता रहूंगा
    ता-उम्र तुम्हारा इंतज़ार करता रहूँगा।

    1 comment: