• Welcome To My Blog

    जहां सुकूं मिले अब ऐसा आशियां ढूंढते हैं


    ढूंढते    हैं    रोज़   मंजिल    को   और    मंजिल   से  ही
    मंजिल   का    पता     पूछते    हैं
    ख़ुद  को   समझे   नहीं   और    करते    रहे    गलतियां
    ख़ुद से ही खुद की ख़ता पूछते हैं

    जब    वक़्त   था   हमारा, उस   वक़्त  की कद्र  ही न किये
    आज  उस  वक़्त  को  कहां  नहीं  ढूंढते  हैं
    एक वज़ूद जो ज़िन्दगी का था, चला   गया   न  जाने  कहाँ
    आज  भी  हम  उसे  यहां  से  वहां ढूंढते हैं

    उल्फ़त की जो चादर है सिमट रही है आहिस्ता-आहिस्ता
    फिर से   इसे  संजोने  का   रास्ता   ढूंढते   हैं
    आसमां में अब चाँद को देखने की आदत ही चली गयी है
    सितारों   की   दुनिया    में  जहां   ढूंढते   हैं

    वो इश्क, मोहब्बत, चाहत सब के सब अब बेगाने हो गए
    फिर इन्हें अपना बनाने की कोई दुआ ढूंढते हैं
    ज़माने   के   कारवाँ में   चलते-चलते   थक   गए   हैं  हम
    जहां   सुकूं  मिले   अब   ऐसा आशियां  ढूंढते  हैं 

    खफ़ा हो कर ज़िंदगी ने ज़िंदगी का  हाथ  छोड़  दिया  है
    फिर से ज़िन्दगी साथ चले ये  सिलसिला ढूंढते हैं
    जहां सिर्फ  ग़ज़ल  ही   कहे , जहाँ   सिर्फ   गीत ही बोले 
    जहां सिर्फ दीवारें सुनें, ऐसा कोई मकां ढूंढते हैं

    ********************************************************





















    3 comments:

    Featured Post

    Journey From Finite To Infinite/एक नए सफ़र की ओर

    Journey From Finite To Infinite जब भी कभी मैं अपने बड़े भाई के बारे में सोचता हूँ, मुझे गर्व होता है। जब भी कभी मैं अपने भाभी (खुशी सिंह)...