कल फिर लिखूंगा तुम पर एक ख़ूबसूरत ग़ज़ल - Silsila Zindagi Ka
  • Welcome To My Blog

    कल फिर लिखूंगा तुम पर एक ख़ूबसूरत ग़ज़ल







                                         कल फिर लिखूंगा तुम पर 
                                          एक ख़ूबसूरत  ग़ज़ल 
                                          कल फिर लिखूंगा तुम पे 
                                          एक प्यार भरा गीत 
                                          तुम्हारे हुस्न की तारीफ़ में 
                                          कल फिर लिखूंगा तुम पे 
                                           एक प्यार सा नज़्म |
                                           कल फिर लिखूंगा तुम्हारी 
                                           हर छोटी-बड़ी नादानी 
                                           कल फिर लिखूंगा 
                                           अपनी और तुम्हारी प्रेम कहानी |

                                           वो तुम्हारा उल्फ़त की चादर में 
                                           सिमट जाना  लिखूंगा 
                                           हँसते हुए मेरी बांहों में 
                                           लिपट जाना लिखूंगा
                                           आँखों में आँखें डालकर 
                                           उन आँखों की बात लिखूंगा 
                                           वो रोज़ का बिछड़ जाना 
                                           वो रोज़ का  मुलाक़ात लिखूंगा |

                                          वो तुम्हारा बात-बात पर 
                                          रूठना और मान जाना लिखूंगा 
                                          वो तुम्हारा जाना और फिर आना 
                                          और वो तुम्हारा फिर 
                                          लौटकर न आना लिखूंगा |

                                          अभी लिखना है बहुत कुछ 
                                           कई फ़साने बाकी हैं 
                                           अभी कई कहानियां अधूरी हैं 
                                           कई किस्से सुनाने बाक़ी हैं|






    2 comments: